भारतीय शिक्षण संस्थान (प्राचीन विश्वविद्यालय एंव ब्रिटिश राज्य मे स्थापित विश्वविद्यालय)

प्राचीनतम विश्वविद्यालय

  1. तक्षशिला : पाँचवीं शताब्दी ईसा पूर्व मे स्थापित, पाँचवी शताब्दी ईसवी मे ध्वस्त। चाणक्य, चन्द्रगुप्त, मौर्य तथा चरक जैसे व्यक्तित्व इस से सम्बद्ध रहे।
  2. नालंदा : पाँचवी शताब्दी में राजा कुमारगुप्त द्वारा मगध में स्थापित। सन 1202-03 ईं मे कुतुबुददीन ऐबक के सेनापति बख्तियार खिलजी द्वारा ध्वस्त।
  3. विक्रम शिला : आठवीं शताब्दी मे राजा धर्मपाल के राज्यकाल मे श्री कामपाल द्वारा स्थापित।
  4. ओदान्तापुरी : सातवीं शताब्दी मे राजा गोपाल द्वारा नालंदा से 6 मील दूर स्थापित।
  5. सेनपुरा : नवीं शताब्दी मे राजा देवपाल द्वारा सेनपुरा, जो अब बंगलादेश मे स्थित है।
  6. जगहला : 12वीं शताब्दी मे राजा रामपाल द्वारा बंगाल मे स्थापित।
  7. वल्लभी : पाँचवी शताब्दी में गुजरात मे मैत्रक वंश के राजाओ द्वारा स्थापित। 
  8. ये सभी विश्वविद्यालय पूर्ण रूप से विकसित थे। यहाँ पर न केवल भारत के अपितु विदेशो से भी शिक्षार्थी आया करते थे।

ब्रिरिश राज्य मे स्थापित विश्वविद्यालय

  1. सर्वप्रथम कलकत्ता, बम्बई तथा मद्रास मे विश्वविद्यालय सन 1857 मे स्थापित किए गए।
  2. पंजाब विश्वविद्यालय-  चौथा विश्वविद्यालय सन 1882 मे लाहौर मे स्थापित किया गया जिसे सन 1956 मे चण्डीगढ मे लाया गया। 1947 तथा 1956 के बीच इस विश्वविघालय का संचालन सोलन से किया जाता था, जब कि शिक्षण कार्य होशियारपुर, जालंधर, दिल्ली तथा अमृतसर मे होता था।
  3. इलाहाबाद विश्वविघालय-  1873 मे स्थापित म्यूर सेन्ट्रल कॉलिज जो आंरभ मे कलकत्ता विश्ववियालय में सम्बद्ध था, ने 1887 मे इलाहाबाद विश्वविद्यालय का स्वरूप ले लिया।
  4. मैसूर विश्वविद्यालय-  ब्रिटिश काल मे, किन्तु ब्रिटिश साम्राज्य से बाहर पहला विश्वविद्यालय सन 1916 मे मैसूर के महाराजा द्वारा स्थापित किया गया। भारत मे स्थापित यह छठा विश्वविद्यालय था।
  5. हिन्दू विश्वविद्यालय, बनारस-  पं मदन मोहन मालवीय ने सन 1916 में एंनीबीसेंट की सहायता से स्थागित दिया।
  6. पटना विश्वविद्यालय-  पटना कॉलिज सन 1863 में स्थापित हुआ था और कलकत्ता विश्वविद्यालय से सम्बद्ध था, 1917 मे विश्वविद्यालय के रूप मे विकसित हुआ।
  7. उस्मानिया विश्वविद्यालय-  सन 1918 मे हैदराबाद के निजाम मीर उस्मान अली खाँ ने स्थापित किया। यह पहला विश्वविद्याल था जिसमे शिक्षा का माध्यम उर्दू रखा गया।
  8. अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय-  सर सैयद अहमद खाँ द्वारा 1875 मे मोहम्मद एंग्लो-ओरियंटल कॉलिज स्थापित किया जो 1920 में अलीगढ विश्वविद्यालय के रूप मे स्वीकृत किया गया।
  9. लखनऊ विश्वविद्यालय-  किंग जार्ज मेडिकल, कैनिगं कॉलिज तथा इसावेला थोबर्न कॉलिज, लखनऊ विश्वविद्यालय केन्द्र बने जो 1920 में अस्तित्व मे आया।
  10. एस. एन. डी. टी. महिला विश्वविद्यालय-  घोड़ों केशव कर्वे ने निराश्रित एवं विधवा महिलाओ के लिए पूना के निकट एक आश्रम बनाया, जिसमे 1916 मे मात्र 5 शिक्षार्थियो को लेकर कॉलिज आरंभ किया गया। सन 1920 तक यह महिला विश्वविद्यालय के रूप मे परिवर्तित हो गया। इसकी विशेषता यह है कि इस का कार्य क्षेत्र पूरा भारत है।
  11. दिल्ली विश्वविद्यालय-  सन 1922 मे स्थापित हुआ।
  12. आगरा विश्वविद्यालय-  1927 ईं मे स्थापित हुआ। प्रारम्भ मे इसका कार्यक्षेत्र कानपुर से लेकर इंदौर तक फैला था।
  13. जामिया मिलिया इसलामिया विश्वविद्यालय-  सन 1920 मे इस नाम से अलीगढ मे स्थापित किया गया। हकीम अजमल खाँ इसके चांसलर तथा मोहम्मद अलीं जौहर वाइस चांसलर बने। सन 1925 मे यह दिल्ली स्थानान्तरित हो गया। यू. जी. सी. ने इसे विधिवत मान्यता 1962 मे दी।
  14. विश्व भारती (शान्ति निकेतन)-  महर्षि देवेन्द्र नाथ ठाकुर ने ब्रहमचर्य आश्रम बोलपुर के निकट 1863 मे आरंभ किया जिसे बाद मे ब्रहमचर्य विद्यालय का नाम दिया। 1901 मे उनके पुत्र रविन्द्र नाथ ठाकुर ने इसमे एक विद्यालय आरभं किया जो 1921 मे एक कॉलिज बन गया। 1951 मे यू. जी. सी. ने इसे विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया।
  15. बनस्थली विद्यापीठ-  पं हीरालाल शास्त्री तथा उनकी पत्नी श्री मति रतन शास्त्री ने 1935 मे अपनी बेटी शान्ताबाई, जो 12 वर्ष की अल्पायु मे दिवंगत हो गई थी, की याद मे बनस्थली मे एक शिक्षा कुटीर आरंभ की। 1943 मे इसमे स्नातक स्तर की कक्षाएं खुल गई ओर इसका नाम बनस्थली विद्यालय रखा गया। 1983 मे इसे विश्वविद्यालय का दर्जा दे दिया गया। यह भारत की 5 महिला विश्वविद्यालय मे से एक है। यह एकमात्र संस्थान है जहाँ प्री-प्राइमरी से पी. एच. डी. तक की शिक्षा प्रदान की जाती है।
  16. गुरूकुल कांगडी-  1902 मे स्वामी श्रद्वानन्द ने गुरुकुल की स्थापना की जिसका ध्येय मैकाले द्वारा दी जा रही शिक्षा से भिन्न स्वरूप प्रस्तुत किया जा सके। इसमे वैदिक साहित्य, भारतीय दर्शन, भारतीय सस्कृति के साथ साथ विज्ञान तथा अनुसंधान के क्षेत्र में भी शिक्षा का प्रावधान था। 1962 मे इसे विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया।
  17. जाधवपुर विश्वविद्यालय-  1906 मे रवीन्द्रनाथ ठाकुर, अरविंद घोष जैसे कुछ लोगों ने नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशन नाम की संस्था बनाई साथ ही तरक नाथ पालित ने सोसाइटी फार प्रमोशन आफ टेक्नोलोजिकल एजूकेशन नाम की सस्थां का गठन किया। सन 1921 मे यह भारत की प्रथम सस्थां थी जिसमे कैमिकल इनजीनीयरिंग की शिक्षा दी जाती थी। 1940 में यह संस्था एक विश्वविद्यालय का रूप ले चुकी थी यद्यपि सरकार द्वारा इसे 1955 में स्वायत्त विश्वविद्यालय घोषित किया गया।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.