जीव के सच्चे हितैषी-सदगुरू

       सदगुरू आदिकाल से ही जीवो की भलाई चाहते आये है। प्रारम्भ से ही उनकी मौज यही रही है कि जीव काल व माया के चक्कर मे न पड़ कर, भक्ति व परमार्थ के शुभ कार्यो मे लगकर, अपने मनुष्य जन्म के उददेश्य को प्राप्त कर सके। इसलिए वे अपने पर नाना प्रकार के कष्ट झेलते हुए जिज्ञासुओ को सर्वोत्कृष्ट नाम प्रदान करते है। वे जीव की आत्मा एवं शरीर दोनो के हितचिन्तक होते है।
हम आपको एक दृष्टान्त के माध्यम से समझाते है।
      एक बार का वृत्तान्त है कि महात्मा जी का तीर्थ यात्रा पर जाने का विचार हुआ। उन दिनों वर्तमान युग की न्याई यातायात के साधन उपलब्ध न थे। प्रायः पद यात्रा ही करनी पड़ती थी। महात्मा जी ने चलते समय अपने एक श्रद्धालु शिष्य को साथ ले लिया। यात्रा मे काम आने वाली आवश्यक सामग्री को लेकर दोनो ने वहाँ से प्रस्थान किया।
      दिन भर यात्रा करने के उपरान्त रात्रि मे जब आगमन हुआ, तब उन्होने जंगल मे ही विश्राम करना चाहा। रात्रि के समय मे वन्य-पशुओ के आक्रमण करने की सम्भावना थी। अतः इस विचार से महात्मा जी ने शिष्य से कहा कि – निरन्तर यात्रा करने के कारण हम थक गये है और तुम भी थके हुए प्रतीत होते हो, इसलिए उचित यही रहेगा कि पहले हम अर्द्ध रात्रि तक विश्राम करते है और तुम जागते रहो तथा आधी रात के बाद हमे जगा देना, पश्चात तुम सो लेना क्योकि जंगल का स्थान है – इसलिए सावधान रहना ही उचित है।
      तब सेवक ने करबद्ध विनम्र प्रार्थना की कि – प्रभो!
       विश्राम, करे; मै सारी रात्रि जागरण कर पहरा दूगां। इस पर महात्मा जी ने कहा – ‘अब तो नित्यप्रति ही यात्रा करनी है, तुम कब तक ऐसे जागते रहोगे। इस शरीर से काम लेने के लिए निद्रा की परम आवश्यकता है।’
      सेवक ने पुनः विनय कि – भगवन! जैसी आपकी मौज। तदुपरान्त महात्मा जी विश्राम मे हो गए और सेवक चरणो की सेवा करता रहा। महात्मा जी ने सोते समय पुनः उससे कहा था कि – प्रेमी! आधी रात बीतने पर हमे अवश्य जगा देना। लेकिन शिष्य ने महात्मा जी को विश्राम से उठाना उचित न समझा और दिल मे कहने लगा – हाय! क्या मै अपने इस नश्वर शरीर के आराम के लिए अपने इष्टदेव को जगाकर कष्ट दूँ? नही, नही, यह मुझ से न होगा। अतएव उसने उन्हे न जगाया।
      आधी रात बितने पर महात्मा जी स्वयं ही जागे और उस प्रेमी से कहने लगे कि ‘तुमने हमे जगाया क्यो नही?’
यह सुनकर सेवक मौन रहा। फिर महात्मा जी ने कहा कि प्रातः फिर यात्रा में चलना है। अतः तुम विश्राम कर लो। उनकी आज्ञा पाकर सेवक निद्रा मे चला गया। सेवक थका हुआ तो था ही, लेटते ही उसको गहरी नींद ने आ घेरा।
      महात्मा जी जाग रहे थे। इतने मे क्या हुआ कि झाड़ियो में से खड़खडाहट की ध्वनि सुनाई दी और तत्काल ही एक काला सर्प उधर आता हुआ दिखाई दिया। उसे देख महात्मा जी ने अन्तदृष्टि से यह जान लिया कि यह किस कारण से इधर आ रहा है। उन्होंने सर्प से पूछा कि – तुम इधर कहाँ जाना चाहते हो? साँप ने उत्तर दिया – ‘यह जो आदमी निद्रावस्था मे पड़ा है, इसके साथ मेरा कई जन्मो से लेन देन का व्यापार चल रहा है। मै एक जन्म में साँप बनकर इसके गले का खून पीता हुँ, फिर दूसरे जन्म में मै आदमी बनता हुँ ओर यह साँप बनकर मेरे गले का खून पीता है। इसी नियम के अनुसार ही मै आज फिर इसके गले का खून पीने आया हूँ। अतः आप इसमे कोई बाधा की दीवार खड़ी न करे तथा मुझे अपना बदला लेने दे।
      तब महात्मा जी ने पुनः साँप से पूछा – तुमने इसके गले का खून लेना है या इसको काटना भी है? सर्प ने उत्तर मे कहा कि मुझे काटने से कोई विशेष प्रयोजन नही, मैने तो इसके गले के खून से अपनी तृषा शान्त करनी है।
      उत्तर पाकर महात्मा जी ने कहा – ठीक है! तुम यहाँ रूको। हम तुम्हे इसके गले का लहु ला देते है। यह सुनकर सर्पदेव वही रूक गया। इधर महात्मा जी के मन में विचार आया कि हमारा कहना युक्ति-संगत ही है। यदि साँप इसको काटता है, तो इस जंगल मे सर्प दंश के उपचार का कोई साधन अपलब्ध न होने के कारण विष के प्रभाव से यह मृत्यु का ग्रास बन जायेगा; दूसरा इन दोनों के कर्मो का सिलसिला कई जन्मो तक चलता रहेगा। भविष्य के परिणाम को सोचकर महात्मा जी ने अपने सामान मे से चाकू निकाला और सेवक की छाती पर बैठकर उसके गले से खून निकालने लगे।
      श्रद्धालु सेवक ने जो कि नीदं में अचेत पड़ा था, एकाएक छाती पर बोझ व गले पर चाकू चलता देख चौंककर देखा कि मेरे वक्ष:स्थल पर मेरे सतगुरू ही विराजमान होकर यह कार्य कर रहे है, उसने तुरन्त ही अपनी आँखे मूँद ली। वह दिल मे सोचने लगा कि यदि अन्य कोई होता ता मै उससे अवश्य पूछता परन्तु यह तो मेरे अपने ही परम हितैषी गुरूदेव विराजमान है। इन्होने इस कार्य मे मेरी भलाई ही सोची होगी।
      महात्मा जी ने चाकू से उसके गले से खून की बूँदे निकाली और बर्तन मे ड़ालकर साँप साँप के आगे बर्तन मे रख दी। खून पी कर साँप चलता बना। तब महात्मा जी ने अपने दुपट्टे मे से कपड़ा फाड़कर सेवक के गले पर पट्टी बाँध दी। प्रभात होने पर महात्मा जी ने सेवक को जगाया ओर दोनों सामान उठाकर यात्रा पर चल दिये। अब सतगुरू द्वारा किए गए घाव की पीड़ा अनुभव होने पर भी जब सेवक ने कोई बात न पूछी, तब गुरू जी से न रहा गया। कहने लगे कि रात को जब हम तेरी छाती पर बैठकर गले पर चाकू चला रहे थे उस समय आँखे खोलने पर भी तुमने हमसे कुछ न कहकर पुनः नेत्र मूँद लिये और अब तक भी उसी दशा मे मौन धारण किए चल रहे हा, क्यो?
      तब सेवक ने विनती की – भगवन! मै यदि किसी अपरिचित पुरूष को अपने वक्ष:स्थल पर बैठा देखता तब मै पूछता लेकिन मुझे तो इस बात का अचल विश्वास है कि आप सदैव मेरे कल्याण की ही सोचते है। इसलिए उस अवस्था मे भी मेरे मन मे कोई संकल्प पैदा न हुआ। सेवक के विश्वास एवं प्रेम-भरे शब्द सुनकर गुरू जी ने रात्रि वाली सब घटना कह सुनाई। यह सब सुनकर सेवक उनके चरणो मे गिर पड़ा तथा प्रार्थना करने लगा कि – हे प्रभो! मुझे तो पूर्ण विश्वास था ही कि आप हर प्रकार से मेरा हित ही करते आ रहे है और इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण यह रात वाली घटना है। अगर साँप मुझे रात को काट जाता तो उससे मेरी मृत्यु हो जाती जिससे मै आवागमन के चक्र में न मालूम कब तक भटकता रहता। आप मेरे केवल शरीर के ही नही, मेरी आत्मा के भी परम हितैषी है। आपके उपकारों से मै कदापि उऋण नही हो सकता। यह मेरा परम सौभाग्य है कि मुझे सुखो की खानि व परम कल्याणमयी आपकी शरण प्राप्त हुई है। जिससे मेरा यह लोक भी सुखप्रद व परलोक भी आनन्दमय होगा।
      इस सम्पूर्ण कथा का तात्पर्य यह है कि किये हुए कर्मो का फल प्रत्येक दशा मे जीव को भोगना ही पड़ता है। चाहे वे अच्छे कर्म हो अथवा बुरे परन्तु सदगुरू की शरण मे जाने से जीव के दुष्कर्म सूली से कांटा बन जाते है, वे भी तब; जबकि जिज्ञासु प्रेम, श्रद्धा एवं निष्काम भाव से उन की मौज व आज्ञानुसार जीवन व्यतीत करे ओर सब प्रकार के से अपने सदगुरू पर निश्चय करके उन्हें अपना हितैषी समझे। तब सदगुरू भी उस सेवक की गुप्त व प्रकट दोनों रूपों मे हर प्रकार से रक्षा करते है जिसका अनुभव उस सच्चे सेवक को ही होता है।
  

Leave a Reply

Your email address will not be published.