छत्रपति शिवाजी की महानता

       भारतीय इतिहास के महान योद्धा वीर मराठा के बारे मे कौन नही जानता। उन्होने तो मुगल बादशाह औरंगजेब के सबसे ताकतवर सेनापति अफजल खाँ को भी मार गिराया था। उन दिनों शिवाजी एक – एक करके सभी किलो पर अपनी विजयश्री का झंडा फहरा रहे थे । इसी दौरान एक बार शिवाजी का एक सेनापति मुगलों पर विजय प्राप्त करके लौटा । उसने सीधे आकर शिवाजी को यह खुश – खबरी सुनाई और बोला – “राजन ! हम आपके लिए बहुत ही अनमोल उपहार लाये है । “सेनापति के इशारे से एक पालकी शिवाजी के सामने लाकर रखी गई । पालकी को हटाया गया तो उसमें सौन्दर्य की अनुपम मूर्ति मुग़ल बादशाह की बेगम विराजमान थी । यह देख शिवाजी को बहुत दुःख हुआ । उन्हे अपने सेनापति की पूरी बात समझते देर न लगी । वह तुरंत मुगल बादशाह की बेगम के पास गये और बोले – “ माँ ! मैं आपके दर्शन करके धन्य हो गया । आप सौन्दर्य की मूर्तिमान प्रतिमा है । अगर मेरी माँ आपकी तरह सुन्दर होती तो ये शिवा इतना काला नहीं होता । मेरे सैनिको को क्षमा कर दीजिये । आप चिंता न करें । आपको सही – सलामत आपके शौहर के पास पहुँचाया जायेगा ।”
     यह सुनकर वह देवी बोली – “ आपके बारे में अब तक केवल सुना था शिवाजी ! लेकिन अब यकीन हो गया कि आप सच में महान है ।”
      इसके बाद शिवाजी ने सैनिको को आदेश दिया कि बेगम को उनके शौहर के पास पहुँचाया जाये । शिवाजी ने अपने सेनापति को भी समझाया कि वीर वही है जो हमेशा नारी का सम्मान करें । जो नारी की इज्जत के साथ खिलवाड़ करे वह कभी वीर नहीं हो सकता और ऐसे कायरों के लिए शिवाजी की सेना में कोई स्थान नहीं । अगर आगे से ऐसी गलती हुई तो तुम्हे दण्ड दिया जायेगा ।

छत्रपति शिवाजी की उदारता –

      वीर मराठा छत्रपति शिवाजी बहुत ही दयालु प्रकृति थे । वे अपने शत्रुओं को क्षमा दान देने के लिए काफी प्रसिद्ध हुए है । एक बार की बात है । शिवाजी अपने शयनकक्ष में सो रहे थे । रात का समय था । एक चौदह वर्ष का बालक किसी तरह छुपकर उनके शयनकक्ष में जा पहुँचा । वह शिवाजी को मारने आया था । लेकिन शिवाजी के विश्वस्त सेनापति तानाजी ने उसे जाते हुए देख लिया था । लेकिन फिर भी उन्होंने उसे जाने दिया । वह जानना चाहते थे कि आखिर यह लड़का क्या करने आया है !
      शयनकक्ष मे जाते ही लड़के ने तलवार निकाली और शिवाजी पर चलाने ही वाला था कि पीछे से तानाजी ने उसका हाथ पकड़ लिया । इतने में शिवाजी की भी नींद टूट गई ।
      उन्होंने उस बालक से पूछा कि तुम कौन हो और यहाँ क्यों आये हो ? उस बालक ने निडरता पूर्वक बताया कि उसका नाम मालोजी है और वह शिवाजी की हत्या करने आया था ।
जब शिवाजी ने उससे कारण पूछा तो उसने बताया कि “मैं एक गरीब घर से हूँ तथा मेरी माँ कई दिनों से भूखी है । इसलिए अगर मैं आपकी हत्या कर दूँ तो आपका शत्रु सुभाग राय मुझे बहुत सारा धन देगा ।
      यह सुनकर तानाजी गुस्से में बोले – “ मुर्ख बालक ! धन से लोभ से तू छत्रपति शिवाजी का वध करने आया है ! अब मरने के लिए तैयार हो जा ?”
      इतने में मालोजी शिवाजी से बोला – “ महाराज ! मैंने आपका वध करने की कोशिश की अतः निसंदेह मैं दण्ड के योग्य हूँ, लेकिन कृपा करके मुझे अभी के लिए जाने दीजिये । मेरी माँ भूखी है वह जल्द ही मर जाएगी । माँ का आशीर्वाद लेकर मैं सुबह आपके सामने उपस्थित हो जाऊंगा ।”
      बालक की बातें सुनकर तानाजी बोले – “ हम तेरी बातो के धोखे में आने वाले नहीं है, दुष्ट बालक !”
      बालक मालोजी बोला – “ मैं एक मराठा हूँ सेनापति महोदय ! और आप बखूबी जानते हो कि मराठा कभी झूठ नहीं बोलते ।” इतना सुनकर शिवाजी ने उस बालक को जाने दिया ।
      दुसरे दिन सुबह जब राजदरबार में छत्रपति शिवाजी महाराज सिंहासन पर बैठे थे । तभी द्वारपाल एक सन्देश लेकर आया कि एक बालक महाराज से मिलना चाहता है । जब उसे अन्दर बुलाया गया तो यह वही बालक था जिसे कल रात शिवाजी ने माँ का आशीर्वाद लेने जाने दिया था ।
      महाराज के सामने आकर बालक बोला – “ मैं आपका अपराधी हूँ महाराज ! आपकी उदारता के लिए आपका आभार व्यक्त करता हूँ । आप जो चाहे दण्ड दे सकते है ।”
      शिवाजी ने सिंहासन से उठकर उस बालक को गले लगाते हुए कहा – “ तुम जैसे सच्चे मराठाओं को अगर मृत्यु दण्ड दे देंगे तो फिर जिन्दा किसे रखेंगे ? आजसे तुम हमारी सेना के सैनिक हो ।”
      छत्रपति ने उसे बहुत सारा धन दिया तथा उसकी माँ की चिकित्सा के लिए राज वैद्य को भेजा गया ।
      लेख अच्छा लगा हो तो आगे अवश्य शेयर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.